Connect with us

न्यूज़

मुस्लिम नेताओं से मिले श्री श्री, AOL का दावा- मजिस्‍द शिफ्ट करने पर बनी सहमति…

Published

on

बेंगलुरु : बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद के विषय पर अपनी मध्यस्थता की कोशिशें फिर से शुरू करते हुए ‘आर्ट ऑफ लिविंग’ (AOL) के संस्थापक श्री श्री रविशंकर ने शुक्रवार को यहां AIMPLB और सुन्नी वक्फ बोर्ड के सदस्यों सहित मुस्लिम नेताओं के साथ बैठक की, जिसमें कई संगठनों के 16 नेता शामिल हुए। विभिन्न राज्यों के प्रतिनिधि और विद्वान भी बैठक में शामिल हुए।

बैठक के बाद आर्ट ऑफ लिविंग ने बताया कि सुन्नी वक्फ बोर्ड, ऑल इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) के प्रमुख सदस्यों और अन्य ने रवि शंकर से मुलाकात की और अयोध्या विषय का अदालत के बाहर हल किए जाने का समर्थन किया। आर्ट ऑफ लिविंग के बयान के अनुसार, ‘उन्होंने मस्जिद को बाहर कहीं दूसरी स्थान पर ले जाए जाने के प्रस्ताव का समर्थन किया है। कई मुस्लिम हितधारक इस विषय में सहयोग कर रहे हैं।’

आर्ट ऑफ लिविंग के एक अधिकारी ने बताया कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के कार्यकारी सदस्य मौलाना सैयद सलमान हुसैन नदवी, उत्तर प्रदेश सुन्नी वक्त बोर्ड प्रमुख जफर अहमद फारूकी, लखनऊ के टीले वाली मस्जिद के मौलाना वसीफ हसन और सेवानिवृत्त IAS अधिकारी डॉ अनीस अंसारी बैठक में शामिल हुए।

अयोध्या में रामराज्य रथ यात्रा की शुरुआत 13 फरवरी से, सीएम योगी दिखा सकते हैं हरी झंडी!

नदवी ने भी श्री श्री से हुई मुलाकात की पुष्टि करते हुए कहा, ‘हमने बैठक की, ताकि सभी मुद्दों, खासकर राम मंदिर और बाबरी मस्जिद पर चर्चा की जा सके। हम ऐसा समाधान चाहते हैं, जो देशभर को एक संदेश दे। हमारी प्राथमकिता लोगों के दिलों से जुड़ना है।’

उन्‍होंने कहा, ‘कोर्ट का जो भी फैसला आएगा, वह संवैधानिक कदम होगा, लेकिन कोर्ट लोगों के दिलों से नहीं जुड़ती। कोर्ट के फैसले हमेशा किसी एक पक्ष के हित में और दूसरे के खिलाफ होता है। हम चाहते हैं कि दोनों पक्ष जब कोर्ट से बाहर आएं तो उनके चेहरे पर खुशी हो।’

सेंटर फॉर ऑब्जेक्टिव रिसर्च एंड डेवलपमेंट निदेशक अतहर हुसैन सिद्दिकी, कारोबारी एआर रहमान, लंदन आधारित वर्ल्ड इस्लामिक फोरम प्रमुख मौलाना इसा मंसूरी, लखनऊ के वकील इमरान अहमद, हज कमेटी ऑफ इंडिया के पूर्व प्रमुख ए अबूबकर और बेंगलुरू के डॉ मूसा कैसर भी बैठक में शामिल हुए।

श्री श्री रव‍िशंकर ने भंसाली के साथ देखी Padmaavat, बोले- फ‍िल्‍म में व‍िरोध करने वाला कुछ नहीं 

श्री श्री रविशंकर द्वारा शुरू की गई वार्ता प्रक्रिया मंद पड़ने के बाद अब फिर से उनकी ओर से नई कोशिशें हुई हैं। रविशंकर ने इससे पहले दावा किया था कि दोनों समुदायों से बहुत अच्छे संकेत उभर कर सामने आए हैं। हालांकि, इन कोशिशों को विश्व हिंदू परिषद की कोई उत्साहजन प्रतिक्रिया नहीं मिली है। विहिप ने इस मुद्दे पर मध्यस्थता करने की आध्यात्मिक नेता की कोशिशों से अपनी दूरी बना ली है।

पिछले साल नवंबर में कर्नाटक के उडुपी में हुए धर्म संसद में RSS प्रमुख मोहन भागवत और विहिप ने रविशंकर द्वारा उन्हें विश्वास में लिए बगैर अयोध्या विवाद का हल किए जाने की कोशिशों की सराहना नहीं की थी। रविशंकर ने पिछले साल नवंबर में उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी मुलाकात की थी।

Follow me in social media

न्यूज़

PNB Fraud: PNB को दूसरे बैंकों के पूरे 11,300 करोड़ चुकाने होंगे: RBI…

Published

on

नई दिल्ली: पूरे पीएनबी घोटाले में नया मोड़ आ चुका है। बैंकों के रेगुलेटर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने कहा है कि पीएनबी को 30 बैंकों को 11,300 करोड़ रुपए देने होंगे। ईटी को मामले की जानकारी रखने वाले 2 बैंकर्स ने जानकारी दी है। अगर पंजाब नेशनल बैंक ने ऐसा नहीं किया तो पूरे बैकिंग सिस्टम पर संकट आ जाएगा। इस पूरे मामले पर रिजर्व बैंक ने दूसरे बैंकों के साथ बैठक की। बैठक में शामिल एक बैंकर ने बताया कि रिजर्व बैंक ने साफ कहा है कि पीएनबी को पूरी देनदारी चुकानी होगी। अगर पीएनबी पैसा नहीं देता है तो पीएनबी और 30 दूसरे बैंकों को दोगुनी प्रोविजनिंग करनी होगी। रिजर्व बैंक ने इस पूरे मामले में कोई जवाब नहीं दिया है।

PNB Fraud: PNB ने कहा सभी देनदारी चुकाएंगे, मोदी ने ईमेल से संपर्क किया

क्या कहा रिजर्व बैंक ने
– रिजर्व बैंक ने पीएनबी ने कहा की 30 बैंकों को 11,300 करोड़ रुपए देने होंगे
– रिजर्व बैंक को दूसरें बैंकों को पैसे देने होंगे
– कल कई बैंकों के सीईओ से रिजर्व बैंक की बैठक हुई
– पीएनबी बैंक वित्त मंत्रालय से मदद मांग रहा है
– रिजर्व बैंक का नियम है कि किसी कर्मचारी ने अवैध ट्रांजैक्शन किया तो बैंक को पैसा देना होगा
– अगर बैंक ने पैसा नहीं दिया तो 22 हजार करोड़ की प्रोविजनिंग करनी होगी

क्या है पूरा मामला
बैकिंग सिस्टम के इस बड़े फ्रॉड को नीरव मोदी और उनकी कंपनी ने पीएनबी से लेटर ऑफ अंडरटेकिंग से अंजाम दिया। ये लेटर ऑफ अंडर टेकिंग नीरव मोदी और उसके चाचा मेहुल चौकसी की कंपनी के आधार पर दिया गया था। ये एक तरह का क्रेडिट नोट था। इस लेटर को आधार बनाकर नीरव मोदी ने 30 बैंकों से 11300 करोड़ रुपए कर्ज लिया। ये फ्रॉड पीएनबी की मुंबई की ब्रेडी हाउस ब्रांच में चल रहा था। पीएनबी के मुताबिक दूसरी बैंकों ने भी रिजर्व बैंक के नियमों का उल्लघंन किया है।

पिछले महीने पता चला घोटाले का

11 हजार करोड़ के घोटाले में पीएनबी एक कॉन्फ्रैंस कर कहा कि उनको जनवरी के तीसरे हफ्ते में इस घोटाले का पता चला। PNB के एमडी और सीईओ सुनील मेहता ने कहा कि पीएनबी ने 29 जनवरी को हम सीबीआई के पास शिकायत की। उन्होंने कहा कि बैंक के 2 कर्मचारी ने 3 कंपनियों के साथ मिलकर ये फ्रॉड किया है। मेहता ने कहा कि ये घोटाला 2011 से चल रहा है। उनके मुताबिक बैंक की जो देनदारी बनती है वो उसको चुकाएंगे। इसके लिए वो दूसरे बैंकों से बात कर रहे हैं। इस पूरे मामले में नीरव मोदी आरोपी है। उन्होंने कहा कि नीरव मोदी ने बैंक से कहा कि कर्ज चुकाने के लिए तैयार है। मेहता ने कहा कि हमने नीरव मोदी को पैसे चुकाने का प्लान बनाकर देने के लिए कहा है।

Follow me in social media
Continue Reading

न्यूज़

सात वर्षीय बच्ची से रेप, पाकिस्तानी कोर्ट ने 4 दिन में सुनाई फांसी की सजा…

Published

on

लाहौर : पाकिस्तान की एक आतंकवाद निरोधी अदालत ने सात वर्षीय बच्ची से बलात्कार और उसकी हत्या के मामले में शनिवार को एक सीरियल किलर को मौत की सजा सुनाई। देश के इतिहास में यह पहला मौका है जब महज चार दिन में मामले की सुनवाई पूरी कर ली गई।

कड़ी सुरक्षा के बीच कोट लखपत जेल में एटीसी जज सज्जाद हुसैन ने सजा सुनाई। उन्होंने 23 वर्षीय इमरान अली को बच्ची के अपहरण, नाबालिग से बलात्कार, बच्ची की हत्या और अव्यस्क से अप्राकृतिक कृत्य करने का दोषी पाते हुए मौत की सजा मुकर्रर की।

इमरान को नाबालिग के शव को क्षत विक्षत करने के मामले में सात वर्ष की सजा के साथ दस लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया। इस नृशंस वारदात की पूरे देश में घोर भर्त्सना हुई थी और लोगों में आक्रोश के भाव देखने को मिले थे।

Follow me in social media
Continue Reading

Facebook

NEWSLETTER

Trending