Connect with us

न्यूज़

बजट 2018: जानिए क्या हुआ सस्ता और क्या महंगा, यहां देखें पूरी लिस्ट…

Published

on

नई दिल्ली: केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को 2018-19 का बजट पेश किया। हर बार की तरह इस बार भी बजट के बाद कुछ चीजें महंगी हुईं तो वहीं कुछ चीजें सस्ती हुईं हैं।

बड़ी संख्या में इम्पोर्टेड उत्पादों मसलन मोबाइल हैंडसेट, कारें और मोटरसाइकिलें, फ्रूट जूस, परफ्यूम और जूते-चप्पल आदि अब महंगे हो जाएंगे। वित्तमंत्री अरुण जेटली ने 2018-19 के आम बजट में इन उत्पादों पर सीमा शुल्क बढ़ाने का प्रस्ताव किया है।

वहीं आयातित अप्रसंस्कृत काजू, सौर टेंपर्ड शीशे और कॉक्लीअर इम्प्लांट का कच्चा माल और एक्सेसरीज सस्ती होंगी। बजट में इन उत्पादों पर आयात शुल्क घटाने का प्रस्ताव किया गया है।

ये चीज़ें हुईं सस्ती
छिलका सहित काजू नट (कच्चा काजू), पीओएस मशीन, डिब्बा बंद वेजिटेबल्स, सिल्वर फॉयल, ऑनलाइन रेलवे टिकट, एलएनजी फिनिश्ड लेदर, सोलर टेम्पर्ड ग्लास, फिंगर स्कैनर, सौर टेंपर्ड शीशे, सौर बैटरी, कॉक्लीअर इम्प्लांट देश में तैयार हीरे,

ये चीज़ें हुईं  महंगी
कारें और मोटरसाइिकल, मोबाइल फोन, चांदी, सोना, सब्जियां, फलों का जूस, सोया प्रोटीन को छोड़कर अन्य फूड तैयार करने का अन्य सामान, सनस्क्रीन, सनटैन, मैनीक्यूर, पेडिक्यूर का सामान, डेंचर फिक्सेटिव पेस्ट और पाउडर, डेंटल फ्लॉस, शेविंग से पहले और बाद इस्तेमाल किए जाने वाली प्रसाधन सामग्रियां, डियोडोरेंट, स्नान का सामान, परफ्यूम वाले स्केंट स्प्र और इसी तरह के अन्य टायलेट स्प्रे, टूक और बसों के रेडियल टायर, रेशमी कपड़े, जूते चप्पल, रंगीन रत्न, हीरे, कृत्रिम आभूषण।

इसके अलावा स्मार्ट घड़ियां-वियरएबल उपकरण, फर्नीचर, गद्दे, लैंप, हाथ और पॉकेट घड़ियां, ट्राइसाइकिल, स्कूटर, पेडल कार, पहिये वाले खिलौने, गुड़िया सभी प्रकार के पजल, आउटडोर खेलों, स्वीमिंग पूल में इस्तेमाल होने वाले उपकरण, पैडिलंग पूल्स, सिगरेट और अन्य लाइटर, मोमबत्तियां, पतंग, खाद्य-वनस्पाति तेल मसलन जैतून और मूंगफली तेल, सस्ते होने वाले उत्पादों की सूची, कच्चा काजू, सौर पैनल-माड्यूल्स विनिर्माण में काम आने वाले सौर टेंपर्ड ग्लास, कॉक्लीअर इम्प्लांट में इस्तेमाल होने वाला कच्चा माल या एक्सेसरीज, चुनिंदा पूंजीगत या इलेक्ट्रानिक्स सामान मसलन बॉल स्क्रू और लीनियर मोशन गाइड आदि जैसी चीज़ें भी महंगी हुुई हैं।

इससे पहले भी बजट 2017-18 में कुछ चीजें महंगी औप कुछ चीजें सस्ती हुईं थीं। पिछली बार सरकार ने ये सामान सस्ते करने की घोषणा की थी। इनमें कि लेदर का सामान, सोलर पैनल, प्राकृतिक गैस, निकेल, बायोगैस, नायलॉन, रेल टिकट खरीदना, सस्ता घर देने का प्रयास, टैक्स में मध्यम वर्ग को राहत देने का प्रयास, पवन चक्की, आरओ, पीओएस, पार्सल, लेदर का सामान और भूमि अधिग्रहण पर मुआवजा टैक्स मुक्त थे। इसके अलावा सौर उर्जा बैटरी और पैनल के विनिर्माण में काम आने वाले सोलर टैम्पर्ड ग्लास को सीमा शुल्क से छूट का भी ऐलान किया था।

वहीं, कुछ सामान महंगा भी किया गया था। इनमें चांदी का सामान, तंबाकू, हार्डवेयर, सिल्वर फॉयल, स्टील का सामान, चांदी के गहने, मोबाइल फोन, सिगरेट,  पान मसाला, एलईडी बल्ब और स्मार्टफोन थे। तंबाकू (गुटखा) वाले पान मसाला पर उत्पाद शुल्क 10% से बढ़ाकर 12%किया गया था।

65 मिलीमीटर तक लंबाई वाली सिगरेट पर उत्पाद शुल्क 215 रुपये प्रति एक हजार से बढ़ाकर 311 रुपये प्रति हजार किया गया था और  पान मसाला पर उत्पाद शुल्क 6% से बढ़ाकर 9%, गैर-प्रसंस्कृत तंबाकू पर 8.3% कर दिया गया था। इसके अलावा अयस्क और कंसंट्रेट पर आयात शुल्क शून्य से बढ़ाकर 30% किया गया था।

next

Follow me in social media
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

न्यूज़

PNB Fraud: PNB को दूसरे बैंकों के पूरे 11,300 करोड़ चुकाने होंगे: RBI…

Published

on

नई दिल्ली: पूरे पीएनबी घोटाले में नया मोड़ आ चुका है। बैंकों के रेगुलेटर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने कहा है कि पीएनबी को 30 बैंकों को 11,300 करोड़ रुपए देने होंगे। ईटी को मामले की जानकारी रखने वाले 2 बैंकर्स ने जानकारी दी है। अगर पंजाब नेशनल बैंक ने ऐसा नहीं किया तो पूरे बैकिंग सिस्टम पर संकट आ जाएगा। इस पूरे मामले पर रिजर्व बैंक ने दूसरे बैंकों के साथ बैठक की। बैठक में शामिल एक बैंकर ने बताया कि रिजर्व बैंक ने साफ कहा है कि पीएनबी को पूरी देनदारी चुकानी होगी। अगर पीएनबी पैसा नहीं देता है तो पीएनबी और 30 दूसरे बैंकों को दोगुनी प्रोविजनिंग करनी होगी। रिजर्व बैंक ने इस पूरे मामले में कोई जवाब नहीं दिया है।

PNB Fraud: PNB ने कहा सभी देनदारी चुकाएंगे, मोदी ने ईमेल से संपर्क किया

क्या कहा रिजर्व बैंक ने
– रिजर्व बैंक ने पीएनबी ने कहा की 30 बैंकों को 11,300 करोड़ रुपए देने होंगे
– रिजर्व बैंक को दूसरें बैंकों को पैसे देने होंगे
– कल कई बैंकों के सीईओ से रिजर्व बैंक की बैठक हुई
– पीएनबी बैंक वित्त मंत्रालय से मदद मांग रहा है
– रिजर्व बैंक का नियम है कि किसी कर्मचारी ने अवैध ट्रांजैक्शन किया तो बैंक को पैसा देना होगा
– अगर बैंक ने पैसा नहीं दिया तो 22 हजार करोड़ की प्रोविजनिंग करनी होगी

क्या है पूरा मामला
बैकिंग सिस्टम के इस बड़े फ्रॉड को नीरव मोदी और उनकी कंपनी ने पीएनबी से लेटर ऑफ अंडरटेकिंग से अंजाम दिया। ये लेटर ऑफ अंडर टेकिंग नीरव मोदी और उसके चाचा मेहुल चौकसी की कंपनी के आधार पर दिया गया था। ये एक तरह का क्रेडिट नोट था। इस लेटर को आधार बनाकर नीरव मोदी ने 30 बैंकों से 11300 करोड़ रुपए कर्ज लिया। ये फ्रॉड पीएनबी की मुंबई की ब्रेडी हाउस ब्रांच में चल रहा था। पीएनबी के मुताबिक दूसरी बैंकों ने भी रिजर्व बैंक के नियमों का उल्लघंन किया है।

पिछले महीने पता चला घोटाले का

11 हजार करोड़ के घोटाले में पीएनबी एक कॉन्फ्रैंस कर कहा कि उनको जनवरी के तीसरे हफ्ते में इस घोटाले का पता चला। PNB के एमडी और सीईओ सुनील मेहता ने कहा कि पीएनबी ने 29 जनवरी को हम सीबीआई के पास शिकायत की। उन्होंने कहा कि बैंक के 2 कर्मचारी ने 3 कंपनियों के साथ मिलकर ये फ्रॉड किया है। मेहता ने कहा कि ये घोटाला 2011 से चल रहा है। उनके मुताबिक बैंक की जो देनदारी बनती है वो उसको चुकाएंगे। इसके लिए वो दूसरे बैंकों से बात कर रहे हैं। इस पूरे मामले में नीरव मोदी आरोपी है। उन्होंने कहा कि नीरव मोदी ने बैंक से कहा कि कर्ज चुकाने के लिए तैयार है। मेहता ने कहा कि हमने नीरव मोदी को पैसे चुकाने का प्लान बनाकर देने के लिए कहा है।

Follow me in social media
Continue Reading

न्यूज़

सात वर्षीय बच्ची से रेप, पाकिस्तानी कोर्ट ने 4 दिन में सुनाई फांसी की सजा…

Published

on

लाहौर : पाकिस्तान की एक आतंकवाद निरोधी अदालत ने सात वर्षीय बच्ची से बलात्कार और उसकी हत्या के मामले में शनिवार को एक सीरियल किलर को मौत की सजा सुनाई। देश के इतिहास में यह पहला मौका है जब महज चार दिन में मामले की सुनवाई पूरी कर ली गई।

कड़ी सुरक्षा के बीच कोट लखपत जेल में एटीसी जज सज्जाद हुसैन ने सजा सुनाई। उन्होंने 23 वर्षीय इमरान अली को बच्ची के अपहरण, नाबालिग से बलात्कार, बच्ची की हत्या और अव्यस्क से अप्राकृतिक कृत्य करने का दोषी पाते हुए मौत की सजा मुकर्रर की।

इमरान को नाबालिग के शव को क्षत विक्षत करने के मामले में सात वर्ष की सजा के साथ दस लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया। इस नृशंस वारदात की पूरे देश में घोर भर्त्सना हुई थी और लोगों में आक्रोश के भाव देखने को मिले थे।

Follow me in social media
Continue Reading

Facebook

NEWSLETTER

Trending