Connect with us

स्वास्थ्य

अगर आप भी करते है ये गलती तो उम्र से 10 साल पहले ही लगने लगेंगे बूढ़े.

Published

on

इंसान की जिदंगी बुढापे के खौफ से ही निकलते निकलते गुजर सी जाती है और लोग इसी के डर में सिमट कर के रह जाते है लेकिन इसके खौफ से नही निकल पाते है और इसके पीछे जिम्मेदार भी तो वो खुद ही होते है क्योंकि लाइफस्टाइल और खान पान ही कुछ ऐसा होता है कि वो समय से पहले ही बूढे से दिखने लग जाते है और फिर खुदको कोसते है कि अगर हमने ये गलती न की होती तो आज भी शायद हमारा शरीर पहले की तुलना में तो तो बेहतर कंडीशन में ही होता

एक सबसे बुरी आदत जो आपको समय से पहले ही बूढा कर देती है वो है कोल्ड ड्रिंक्स का पीना, जी हाँ अगर आप कोल्ड ड्रिंक्स पीते है तो ये आपको बूढा और बहुत ही जल्दी बूढा करने का काम करती है

Source: Indian Express

अभी हाल ही में एक रिसर्च हुई है जिसमे सामने आया है कि कोल्ड ड्रिंक्स के अन्दर ही एक फास्फोरिक एसिड की काफी मात्रा होती है और ये मात्रा इतनी ज्यादा होती है कि इससे आपके शरीर पर गहरा असर पड़ता है और इसके प्रभाव से कोई भी इंसान समाय से पहले ही बूढा दिखने लग जाता है और जब एक बार इसका प्रभाव दिखना शुरू हो गया तो इसे बादमें रिवर्स भी नही किया जा सकता है तो बेहतर तो यही है कि आप इसे इग्नोर करे बजाय की अपनी जीभ को लगातार गलत ढंग से संतुष्टि देने केअगर आपको लगता है कि आपको बुढापा कुछ जल्दी ही आने लग गया है तो ऐसे में आप एंटी ओक्सिडेंट फूड्स का सेवन कर सकते है जो आपके साथ होने वाली एजिंग की दिक्कत को हमेशा हमेशा के लिए ही खत्म देते है और ये कोल्ड ड्रिंक जैसी चीजो से होने वाली प्रोब्लम्स को भी काफी हद तक तो रोकते ही है।

Follow me in social media
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

स्वास्थ्य

रखना है खुद को फिट तो ध्यान रखें ये टिप्स, 2 मिनट में जानें अच्छी सेहत की बातें…

Published

on

नई दिल्ली : क्या आप बीमार होना पसंद करते हैं,,,जी, बिल्कुल भी नहीं. हममें से कोई भी बीमार पड़ना नहीं चाहता है. अगर सर्दी-जुकाम भी हो जाए या फिर शरीर में कहीं भी जरा दर्द हो जाए तो हमें कितनी परेशानी होती है, इसका अंदाजा लगाया जा सकता है. और ऊपर से छोटी सी बीमारी में भी कितना खर्चा हो जाता है, सभी जानते हैं. पूरे महीने का बजट ही बिगड़ जाता है. इसलिए कहा जाता है कि सावधानी बरतें और दुर्घटना से बचें. ये भी सही है कि बीमारी को रोका भी नहीं जा सकता है. इसलिए बेहतर है कि खुद को हमेशा दुरुस्त रखें और एहतियात बरतें, ताकि बीमारियों से काफी हद तक बचा जा सके.

आज हमने अपना जीवन स्तर खुद ही इस तरह का कर लिया है कि हम बीमारियों को खुद ही निमंत्रण देने लगे हैं. खानपान, रहन-सहन, दिनचर्या, और जीवनशौली में आए बदलाव ने हर चलते-फिरते आदमी को एक बीमारी की दुकान बना दिया है. छोटे बच्चे से लेकर जवान तक को किसी ना किसी बीमारी से जूझते हुए देखा जा सकता है. इसलिए बेहतर होगा कि अपनी सेहत को लेकर भी हम हमेशा सचेत रहें. अपने आसपास ऐसा हेल्दी माहौल तैयार करें जिसमें बीमार होने की गुंजाइश कम से कम हो.

Image result for healthy zee news
हेल्दी खाना अच्छी सेहत के लिए बहुत जरूरी है

यहां हम कुछ ऐसी ही बातों पर चर्चा कर रहे हैं, जिन्हें अपना कर हम हेल्दी लाइफ जी सकते हैं-

साफ-सफाई का रखें ख्याल
बीमारी से बचने और उसे फैलने से रोकने का सबसे अच्छा तरीका है अपने हाथ धोना. भारत सरकार ने यूनिसेफ के साथ मिलकर हाथ धोने का अभियान भी चलाया हुआ है. गंदे हाथों पर कीटाणु होते हैं और जब हम गंदे हाथों से अपने शरीर के किसी हिस्से को साफ करते हैं तो तो सर्दी-ज़ुकाम और फ्लू जैसी बीमारियां आसानी से फैल जाती हैं. आसपास साफ-सफाई का ध्यान रखें. साफ-सफाई से निमोनिया और दस्त जैसी बीमारियों से बचा सकता है. यूनिसेफ के आंकड़े बताते हैं कि उल्टी-दस्त जैसी बीमारी से हर साल 5 वर्ष से कम उम्र के करीब 20 लाख बच्चों की मौत हो जाती है.

ऐसे मिलेगा पीठ दर्द से छुटकारा फोलो करें यह टिप्स, पढ़िए 2 मिनट में

कहीं भी बाहर से घर आने के बाद, खाना खाने से पहले, खाना बनाने से पहले, बाथरूम के इस्तेमाल के बाद हाथों को साबुन से अच्छी तरह से साफ करना चाहिए. हाथों की सफाई से हम छोटी-मोटी बीमारियों को काबू कर सकते हैं. घर और काम की जगह की साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें. घर की रसोई और सोने का कमरा हवादार होना चाहिए.

‘इस जहां की नहीं हैं तुम्हारी आंखें’, बस 2 मिनट में जानें कैसें रखें इनका ख्याल

खान-पान पर दें ध्यान
हम जो खाते हैं उसका तो सेहत पर असर पड़ता ही है. इसलिए आप क्या और कितना खाते हैं, यह बहुत मायने रखता है. भूख लगने पर ही खाएं और पेट भर कर ना खाएं. पेट में थोड़ी जगह हवा-पानी के लिए भी रखें. अच्छी सेहत के लिए पौष्टिक खाना खाएं. ज्यादा नमक, चिकनाई और ज्यादा मीठा खाने से बचें. बाहर के खाने से भी परहेज करें. मौसम के मुताबिक, फल-सब्जियां खाएं. खाने की थाली में प्रोटीन, विटामिन आदि की भरपूर मात्रा होनी चाहिए. खुले में रखी खाने-पीने की चीजों से दूरी बनाएं. खाने में दूध, दही, सलाद, फलों का इस्तेमाल करें.

ऑफिस का काम कहीं छीन ना ले आपका चैन और आराम, बस 2 मिनट के लिए इधर दें ध्यान

योग और व्यायाम को दिनचर्या में शामिल करें
आज की जीवनशौली इस तरह की हो गई है जिसमें शरीर की मेहनत के काम लगभग खत्म हो गए हैं. विलासिता की चीजों के रोजाना अविष्कार हो रहे हैं. हमारे शरीर का ज्यादातर हिस्सा शायद ही रोजाना किसी काम में आता हो. इससे शरीर के जोड़ तथा नसों की बीमारियां तेजी से फैल रही हैं. लगातार बैठे रहने से पेट बीमारियों का घर बन रहा है. ऐसे में जरूरी है कि कुछ समय अपने शरीर के लिए निकाला जाए. योग और व्यायाम को अपने दैनिक जीवन में शामिल करें.

शरीर से इतना काम जरूर लें जिससे शरीर से पसीना निकले. पसीना बाहर आने से शरीर के अंदर के खराब तत्व बाहर निकलते हैं. खून का दौर बना रहता है. शरीर का हर हिस्सा काम करता है. अगर योग या कसरत नहीं कर पा रहे हैं तो कुछ समय कोई खेल के जरूर निकालें.

 

next

Follow me in social media
Continue Reading

स्वास्थ्य

वजन मैनेज करने के लिए कैसा होना चाहिए आपका नाश्ता, पढ़िए 2 मिनट में…

Published

on

नई दिल्ली : अपने दिन की शुरुआत भरपूर नाश्ते के साथ करने वाले लोगों का वजन कम होने की संभावना जताते हुए वैज्ञानिकों ने सदियों पुरानी इस कहावत पर मुहर लगाई है कि सुबह का नाश्ता राजा की तरह करना चाहिए और रात का खाना फकीर की तरह. पचास हजार लोगों पर कराये गये एक अध्ययन में यह बात सामने आई कि दिनभर में सुबह के नाश्ते के समय सबसे ज्यादा आहार लेने वाले लोगों का बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) उन लोगों की तुलना में कम होता है जो दिनभर कम खाने के बाद रात को छक कर खाते हैं जबकि दोनों ही तरह के लोग पूरे दिन में एक समान कैलोरी की खपत करते हैं.

अमेरिका में लोमा लिंडा यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के अनुसंधानकर्ताओं ने यह भी पता लगाया कि नाश्ते और रात के भोजन के बीच वक्त अधिक होने का संबंध भी कम बीएमआई से है. जर्नल ऑफ न्यूट्रीशन में प्रकाशित अध्ययन की मुख्य लेखिका हाना काहलेओवा ने कहा, ‘‘भारी नाश्ता करने से भूख, खासतौर पर मिठाइयों और वसा बढ़ाने वाली चीजों की लालसा कम होती है और इससे वजन बढ़ने पर रोक लगती है.’’ काहलेओवा ने ‘द टेलीग्राफ’ को बताया, ‘‘नियमित सुबह का नाश्ता लेने से तृप्ति बढ़ती है, कुल ऊर्जा खपत कम होती है, समग्र आहार गुणवत्ता में सुधार आता है, ब्लड लिपिड कम होता है और इंसुलिन सेंसिटिविटी और ग्लूकोज टॉलरेंस में सुधार होता है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘दूसरी तरफ शाम के वक्त अधिक खाने से इसके विपरीत प्रभाव होते हैं और इनसे शरीर के वजन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है.’’

वैज्ञानिकों का कहना है कि लोगों को स्वस्थ और उचित वजन के लिए सुबह का नाश्ता और दोपहर का भोजन करना चाहिए, देर रात के खाने को छोड़ देना चाहिए, स्नैक्स से बचना चाहिए, दिनभर में सबसे ज्यादा आहार सुबह के नाश्ते में लेना चाहिए और रात में कम से कम 18 घंटे तक कुछ नहीं खाना चाहिए.

next

Follow me in social media
Continue Reading

Facebook

NEWSLETTER

Trending